इस मिट्टी के संग।

Avishek Sahu
August 23, 2018

सुना है कुछ लोग मज़ाक नहीं सेह सकते,

एक छोटे से बच्चे को सुला नहीं सकते,

बरसते हैं वो सब बस दिखाने के लिए,

के बाकी तो बने हैं सिर्फ हड़काने के लिए,

तभी तो जाओगे इस मिट्टी के संग,

जहां कोई ना जाए फेंकने दो रंग,

अब रंग ही तो हम बस फेंक आए हैं,

वरना क्यूं उस मुश्किल में फस आए हैं,

वैसी होगी अगर कहीं पे किसी से बात,

उनकी ही होगी देने को साथ।

Leave a Reply